हिंदू धर्म की इन 10 परंपराओं के पीछे है वैज्ञानिक कारण, इसे पढ़कर आप भी कहेंगे कि यही सच है

scientific-reasons-for-hindu-traditions

हिंदू धर्म की इन 10 परंपराओं के पीछे है वैज्ञानिक कारण, इसे पढ़कर आप भी कहेंगे कि यही सच है

हिंदू धर्म अपनी मान्यताओं और रीति-रिवाजों के कारण विश्वव्यापी पहचान रखता है और यही कारण है कि विदेशियों ने हमारी कई परंपराओं और रीति-रिवाजों का पालन करना शुरू कर दिया है। लेकिन इन रीति-रिवाजों के पीछे कई वैज्ञानिक कारण हैं, विज्ञान भी हमारे रीति-रिवाजों को सलाम करता है, यह शायद हम भी नहीं जानते लेकिन विज्ञान ने इस बात की पूरी तरह पुष्टि की है, आप भी पढ़िए और कहिए हां, यह सच है, आइए 10 परंपराओं को जानें।

1. सेंधा में सिंदूर भरना :

हम विवाहित महिलाओं को सिर पर सिंदूर लगाते हुए देखते हैं, हमारे धर्म के अनुसार यह विवाहित होने का संकेत है लेकिन अगर हम इसे वैज्ञानिक रूप से देखें तो सिंदूर लगाने से शरीर का रक्तचाप भी नियंत्रित रहता है, क्योंकि सिंदूर में हल्दी, चूना और पारा होता है। सिंदूर भी एक यौन उत्तेजक है इसलिए हमारे धर्म में विधवाओं को सिंदूर लगाना मना है।

2. पैर छूने के लिए :

आज के युवा पैर छूने से कतराते हैं लेकिन पैर छूने को विज्ञान भी सलाम करता है। जब हम किसी के पैर छूते हैं तो वह हाथ की शिराओं से और सांवला के पैरों से होते हुए हाथों में एक चक्र पूरा करते हुए हमारे शरीर में प्रवेश करता है।

3. चांदलो करना :

किसी भी शुभ अवसर पर और कुछ धर्मों में चांदलो करने  की परंपरा है, लेकिन इसके पीछे एक वैज्ञानिक कारण है। माथे के मेडुला और दोनों आंखों के बीच में पलक झपकने से एकाग्रता, एकाग्रता, आंखों से सिर तक ऊर्जा बढ़ती है और चेहरे की कोशिकाओं में रक्त संचार बना रहता है।

4. नमस्ते करना :

कई जगहों पर हमने कई लोगों को दोनों हाथों से किसी का अभिवादन करते देखा है, हमने अक्सर किसी को उसी तरह अभिवादन किया है, ज्यादातर समय यह अभिवादन होटलों और विमानों में अधिक किया जाता है, लेकिन इसके पीछे एक वैज्ञानिक कारण भी है, जब आप दोनों हाथों को मिलाने से आपके दोनों हाथों को एक्यूप्रेशर मिलता है और यह आपके आंख, कान और दिमाग पर अच्छा प्रभाव डालता है। इसके अलावा सलामी देने से सामने वाले से हाथ नहीं मिलाना पड़ता है, जिससे सामने वाले व्यक्ति के बैक्टीरिया हमारे शरीर में प्रवेश नहीं करते हैं।

5. जमीन पर बैठकर भोजन करना :

जबकि अधिकांश घरों में आज डाइनिंग टेबल हैं, कभी-कभार बुफे डिनर होता है, यही वजह है कि आज जमीन पर बैठकर खाने की प्रथा कम ही देखने को मिलती है। लेकिन वैज्ञानिक दृष्टिकोण से स्टूल पर बैठना योग है और इस तरह से स्टूल पर बैठने से मन शांत रहता है और पाचन क्रिया भी तेज होती है।

6. सिर में छोटलि :

वहाँ के ब्राह्मणों में हम देखते हैं कि लोकको अपने सिर पर एक छोटली रखता है। परंपरा के अलावा वैज्ञानिक रूप से कहा जाए तो मस्तिष्क का सारा नशा उस जगह पर जमा हो जाता है जहां चोटली को सिर में रखा जाता है, जिससे एकाग्रता बढ़ती है, साथ ही क्रोध शांत रहता है और सोचने की शक्ति भी बढ़ती है।

7. कर्ण भेदन :

उसकी बेटी का कान तभी छिदवाया जाता है जब हम वहां होते हैं। हम इसे एक परंपरा के रूप में देखते हैं लेकिन इसके पीछे एक वैज्ञानिक कारण भी है। इससे मनुष्य की सोचने की शक्ति बढ़ती है। यह एक व्यक्ति के भाषण और कान से मस्तिष्क तक नसों में रक्त के प्रवाह में भी सुधार करता है।

8. उपवास करना :

उपवास की परंपरा वर्षों पुरानी है और आज भी देवी माताजी या भगवान के नाम पर उपवास करने की आवश्यकता है। यदि कोई वैज्ञानिक कारण है, तो उपवास उचित पाचन बनाए रखने में मदद करता है। एक शोध के अनुसार, उपवास करने वालों को इसका खतरा नहीं है कैंसर और हृदय रोग और मधुमेह जैसी बीमारियों के विकसित होने का खतरा भी कम होता है।

9. मूर्ति पूजा :

जब हम किसी मंदिर में जाकर किसी मूर्ति के सामने खड़े होकर उसकी पूजा करते हैं तो हमारा ध्यान भगवान पर होता है, मूर्ति पूजा के पीछे वैज्ञानिक कारण भी आज है, जब आप किसी मूर्ति के सामने खड़े होते हैं तो आपका ध्यान उस पर केंद्रित होता है मूर्ति

10. तुलसी पूजा :

आज भी कई घरों में तुलसी की पूजा की जाती है, तुलसी को देवी के रूप में पूजा जाता है। विज्ञान और आयुर्वेद के अनुसार तुलसी में कई औषधीय गुण होते हैं और यह रोगों को दूर करने और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में बहुत मददगार है। इसके अलावा आंगन में तुलसी होने के कारण घर में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश नहीं होता है।

JOIN WHATSAPP GROUP FOR LATEST UPDATES.